बुधवार, 14 जनवरी 2009

भगवान् आत्मा




अनंत सिद्धों को तेरी पर्याय में स्थापित किया है , अब तेरा चार गति में रुलना नहीं रहेगा ,अब तुम अल्पज्ञ भी नहीं रह सकोगे अपने सर्वज्ञ स्वभाव से ही तुम सर्वज्ञ हो जाओगे |  


सभी जीव साधर्मी हैं विरोधी कोई नहीं सर्व जीव पूर्णानंद को प्राप्त हो ! कोई जीव अपूर्ण ना रहो कोई जीव विपरीत दृष्टिवंत ना रहो !  
पूज्य गुरुदेव श्री कानजी स्वामी

3 टिप्‍पणियां:

Dev ने कहा…

आपको लोहडी और मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ....

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सूंदर

superior ने कहा…

tuerqi631
afuhan368
bajisitan
balesitan
nanfei87

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
हिन्दी उर्दू में कविता गीत का सृजन |